AAJ KA VICHAR IN HINDI 14 DECEMBER

AAJ KA VICHAR IN HINDI

( चाणक्य नीति )

दोस्तों में आपके लिए रोजाना प्रेरणा से ओत प्रोत विचार हमारे ब्लॉग MEREMANKAKONA.COM पर AAJ KA VICHAR IN HINDI लिखता हूँ  और आप को प्रेरित करता रहता हूँ
मगर प्यारे दोस्तों मुझे आपका सपोर्ट कम मिल रहा हे
जिससे AAJ KA VICHAR IN HINDI लेख लोगो तक नहीं पहुँच रहा हे…..
हमारे VICHAR को शेयर जरूर किया कीजिये….

THANK YOU....
====================================================================

AAJ KA VICHAR IN HINDI

अगर धन की हानि हो जाए तो
 इसके बारे में हर किसी को नहीं बताना चाहिए।
 इससे मनुष्य की प्रतिष्ठा नष्ट होती है
और लोग उसका सम्मान करना बंद कर देते हैं।
Agar Dhan ki Hani Ho Jaye to ,
Uske baare mein Har Kisi Ko Nahi batana chahiye,
 isse manushya ki pratishta nasht ho jati hai ,
aur log uska Samman karna band kar dete Hain..

================================================

इस दुनिया में जिस व्यक्ति का मान नहीं होता,
 जिसकी कोई इज्जत नहीं होती,
 वह मनुष्य मनुष्य नहीं पशु के समान है,
Is Duniya Mein jis vyakti ka mann nahi hota 
uski Koi Izzat nahi hoti
 waha manushya manushya nahi Pashu ke Saman hai
========================================================================

जिनके पास पैसा होता है उनकी लोग झूठी इज्जत करते है.
इंसान की सच्ची इज्जत तो उसके कर्मो से ही होती है.
और अपनी  इज्जत, मान-सम्मान को बनाकर रखना 
 स्वयं मनुष्य के अपने हाथ में ही है….
Jiske Paas Paisa Hota Hai unki log Jhooti Izzat Karte Hain,
 Insan Ki Sacchi Izzat to Uske Karmo Se Hoti Hai ,
Aur apni Izzat Maan Samman ko Bana kar RakhNa Swyem Manushya ke apne haath mein hi hai….
===============================================

 
 जो व्यक्ति किसी के यहाँ पर बार बार बिन बुलाएं आता जाता रहता है ,
उसकी कोई इज्जत नहीं करते
 ऐसे व्यक्ति का कोई सम्मान नहीं होता
. लोग उससे चिढने लगते है
और एक समय ऐसा आता है
 कि उस व्यक्ति का अपमान बार बार होता है.

Jo vyakti kisi ke yahan baar baar Bin Bulaye Aata Jata rehta hai
 uski Koi Izzat nahi karte 
Aise vykti ka koi Samman Nahi Hota
 log usse chidhane Lagte Hain 
aur ek Samay Aaisa Aata Hai Ki
 Us vyakti ka apmaan baar baar Hota Hai..
===============================================================
मन में कोई दुख हो तो वह भी किसी के सामने 
अभिव्यक्त नहीं करना चाहिए,
 क्योंकि संसार में सच्चे हितैषी बहुत कम होते हैं।
संभव है कि वह व्यक्ति पीछे से उन्हीं दुखों के 
आधार पर व्यक्ति का मजाक उड़ाए।
 इससे दुखी मनुष्य का दुख और बढ़ सकता है।
जहां तक संभव हो ऐसी बात सार्वजनिक नहीं करनी चाहिए।

Mann Mein Koi Dukh ho to Wo bhi kisi ke samne abhivyakt nahi karna chahiye
 Kyunki Sansar Mein sachhe hiteshi bahut kam Hote Hain,
 Shambhv hai ki vah vyakti piche se unahi dukan ke Aadhar par vyakti ka majak udaye
IiSe manushya Ka Dukh Aur badjate Hai 
Jahan Tak sambhog Ho Aisi Baat Sarvajanik nahi karni chahiye..
 ==============================================
 
पुरुष को अपने घर की बातें सबको नहीं बतानी चाहिए।
विशेष रूप से अपनी पत्नी के चरित्र पर दूसरों के सामने 
कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए।
 ऐसा करने वाले पुरुष की प्रतिष्ठा, सम्मान का नाश होता है।
 भविष्य में उसे कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
purush ko Apne Ghar Ki Baatein Sab Ko Nahi batana chahiye,
 Vishesh Roop se apni Patni ke Charitra par dusro Ke Samne koi tippani nahi karni chahiye,
 Aisa Karne Wale Purush ko pratishta samman ka NAS hota hai
 Bhavishya Mein uski Pareshaniyon ka Samna karna Pada sakta hai….
=======================================================================
ज्ञानी वही है जो मान और अपमान में सदैव समान रहे,
लेकिन ऐसा कर पाना बहुत कठिन होता है।
जीवन में मिला अपमान
दूसरों के सामने कभी चर्चा का विषय नहीं बनाना चाहिए।
हो सकता है कि आप ऐसा कर अपने मन की बात कहना चाहते हों
 परंतु अगर सुनने वाला व्यक्ति दूसरों को इसके बारे में बता दे
 तो इससे अपमान में वृद्धि हो जाती है।
 इसलिए अपमान से जुड़ी घटना कभी किसी को नहीं बतानी चाहिए।

Gyani wahi hai jo Mar aur Aasman Mein sadev Saman Rahe lekin Aisa Kar Pana bahut kathin Hota Hai Jeevan Mein Mila apmaan doosron Ke Samne Kabhi Charcha ka Vishay nahi banana chahiye ho sakta hai aap Aisa Kar Apne Man Ki Baat kehna chahte Ho Bandhu Agar sunne wala vyakti dusro ko Uske baare mein Bata De Tu Kis Se Aasman mein vridhi ho jati hai isliye aap Marne se Judi ghatna Kabhi Kisi Ko Nahi batana chahiye
 =======================================================================
किसी की बिन मांगे मदद करना कभी कभी 

अपमान का कारण बन सकता है.

 सभी इंसान को अपना स्वाभिमान प्रिय होता है.

 किसी को अपने जीवन में दखलंदाजी पसंद नहीं है.

 इसलिए कभी कभी बिन मांगी सहायता करना भी

 मनुष्य को भारी पड़ सकता है.

Kisi Ke Bin Mange madad karna kabhi kabhi apmaan ka Karan ban jata hai,
 Ese Insaan ko Apna Swabhiman Priya Hota Hai 
Kisi Ko Apne Jeevan Mein dakhil andazi pasand nahi hai 
isliye kabhi-kabhi Bin Mangi sahayata karna bhi manushya ko baraiv pad sakta hai…..
=============================================================

 जब दो बड़े बात कर रहे हो तो छोट को बीच में नहीं बोलना चाहिए.
यह बात सिर्फ छोटे पर ही नहीं बड़ो पर भी लागू होती है.
 जब दो लोग बात कर रहे होते है तो जो मनुष्य बीच में बोल पड़ता है
 वह स्वयं को छोटा साबित करता है.
 इसलिए जब दो बड़े बात कर रहे हो तो बीच में नहीं बोलना चाहिए.

Jab do Bade baat kar rahe ho to chote ko beech mein nahi bolna chahiye,
 ye baat sirf choton par hai nahi Badon par bhi Lagu Hoti Hai,
 Jab do log baat kar rahe Hote Hain to,
 Jo manushya Beech Mein bol padta hai,
 wo swyem ko Chhota sabit karta hai ,
isiliye Jab do Badi baat kar rahe ho To,
beech mein nahi bolna chahiye..

…Aaj ka vichar in hindi पड़ने के लिय धन्यवाद …

AAJ KA VICHAR IN HINDI

================================================================

दोस्तों में आपके लिए रोजाना प्रेरणा से ओत प्रोत विचार हमारे ब्लॉग MEREMANKAKONA.COM पर AAJ KA VICHAR IN HINDI लिखता हूँ 
हमारे VICHAR को शेयर जरूर किया कीजिये….

आगे और भी हे ………..
राजा और भिखारी
सफलता की ड्रेस
चूहा अगर पत्थर का हो तो 
परछाई से कभी मत घबरा
इन पांच वाक्यों को कूड़े में फेंक दो..   

Author: Rajendra Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *